कुरान बांटने की सजा पर भड़’कीं वीएचपी नेता साध्वी प्राची, कहा- मिलार्ड ने भारत में सीरिया जैसा… - Champtop | Welcome To Digital World

Breaking

Thursday, July 18, 2019

कुरान बांटने की सजा पर भड़’कीं वीएचपी नेता साध्वी प्राची, कहा- मिलार्ड ने भारत में सीरिया जैसा…








बागपत: सोशल मीडिया पर इस्लाम को लेकर आ’पत्तिजन’क पोस्ट करने के लिए झारखंड की ऋचा पटेल को कोर्ट ने एक अजीबो-गरीब फैसले सुनाते हुए पांच कुरान बांटने का आदेश दिया है। ये फैसला झारखंड के रांची स्थित एक स्थानीय अदालत ने सुनाया है। कोर्ट के इस फैसले की कड़ी आलोचना हो रही है। इस पर अब विश्व हिंदू परिषद् की नेता साध्वी प्राची ने भी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा है कि देश में अब देशविरोधी तत्व सक्रिय हो गए हैं। उन्होंने फैसले को सीरिया में दिया जाने वाले जैसा फतवा करार दिया।



उन्होंने कहा कि कोर्ट द्वारा दिया गया फैसला मिलार्ड का फैंसला नहीं बल्कि ऐसा लगता है कि जैसे एक फतवा सा जारी हो गया है। उन्होंने फैसला सुनाने वाले जज पर को लेकर कहा कि अगर शांति लाने के लिए ये फैसला होता तो मिलार्ड को कहना चाहिए था कि वेद बांटों। ऐसा लग रहा है कि जैसे ये सीरिया में फैसला आया है हिन्दुस्तान में नहीं। उन्होंने आगे कहा कि मुझे तो बड़ी हंसी आ रही है मैं तो रोज ऐसे लोगो के खिलाफ आवाज उठती हूं।



साध्वी प्राची ने दिल्ली के हौजकाजी स्थित मंदिर में हुई तोड़ फोड़ का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अगर देश में अमन और शांति चाहिए, तो जिन लोगों ने दिल्ली और मुजफ्फरनगर में मंदिर तोड़ा है, उन लोगों पर कांवड़ लेने भेजा जाए। उन्होंने कहा कि जज को कुरान नहीं, बल्कि वेद बांटने का फैसला देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में देश विरोधी गैंग सक्रिय हो रहे हैं।



ऋचा ने कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि सजा किस बात की। पोस्ट मेरा नहीं था और उस पर मेरी टिप्पणी आपत्तिजनक नहीं थी, तो सजा किस बात के लिए। उन्‍होंने आगे कहा कि मेरी वकील से बात हो गई है और वह कोर्ट के फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील करेंगी। ऋचा ने कहा कि अगर मेरी टिप्पणी से किसी को ठेस पहुंची है तो दूसरे समुदाय से इससे भी गंदे पोस्ट आते हैं उस वक्‍त कार्रवाई क्यों नहीं होती है? पुलिस ने दबाव में आकर मेरे ऊपर कार्रवाई की है।



गौरतलब है कि ऋचा ने सोशल साइट पर धार्मिक पोस्ट किया था। इसके बाद अंजुमन इस्लामिया पिठोरिया के प्रमुख मंसूर खलीफा ने रांची के पिठोरिया थाने में 12 जुलाई को एफआईआर दर्ज कराई थी। इसमें उन्होंने ऋचा पर मुस्लि’म समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया है।



पुलिस ने इसके बाद कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की कोर्ट ने कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर ऋचा को जमानत दी थी। इसके लिए ऋचा को 15 दिन का समय दिया गया है।

No comments:

Post a Comment